यूक्रेन पर हमला: रूसी सैनिकों ने मारियुपोल इस्पात संयंत्र पर किया हमला, करीब 2000 यूक्रेनी फौजी ले रहे लोहा 


वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, मारियूपोल
Published by: Amit Mandal
Updated Tue, 03 May 2022 10:42 PM IST

सार

संयंत्र पर धावा नहीं बोलने के रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आदेश देने के करीब दो हफ्ते बाद रूसी सेना ने यह हमला किया।

ख़बर सुनें

यूक्रेन के मारियुपोल में प्रतिरोध का आखिरी स्थान माने जा रहे एक इस्पात संयंत्र पर रूसी सैनिकों ने मंगलवार को धावा बोल दिया। यूक्रेनी रक्षकों ने यह जानकारी दी। संयंत्र के नीचे मौजूद बंकर से पिछले सप्ताह निकाले गए दर्जनों नागरिकों के यूक्रेन के नियंत्रण वाले अपेक्षाकृत एक सुरक्षित शहर में पहुंचने के कुछ ही देर बाद यह हमला शुरू हुआ।

यूक्रेन के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवीय सहायता समन्वयक ओस्नात लुबरानी ने कहा कि 101 महिलाएं, पुरुष, बच्चे और वृद्ध लोग आखिरकार बंकर से निकल सकें, जो अजोवस्ताल स्टीलवर्क्स के नीचे है। वे लोग दो महीनों से वहां शरण लिए हुए थे। हालांकि, जो लोग वहीं रह गये उनके लिए अच्छी खबर नहीं है। यूक्रेनी सैनिकों ने कहा है कि रूसी सैनिकों ने संयंत्र पर हमले शुरू कर दिये हैं।

यूक्रेन के अजोव रेजिमेंट के उप कमांडर स्वीयात्सलाव पालमर ने कहा कि रूसी सैनिक बख्तरबंद वाहनों और टैंक की मदद से जोरदार हमला कर रहे हैं। यूक्रेनी उप प्रधानमंत्री इरयाना वेरेशचुक ने कहा कि संयंत्र के अंदर छिपे यूक्रेनी लड़ाकों की संख्या के बारे में जानकारी नहीं है लेकिन रूसी अनुमानों के मुताबिक यह संख्या हफ्ते भर पहले 2,000 थी और ऐसी खबरें हैं कि उनमें से 500 घायल हैं। सैकड़ों की संख्या में नागरिक भी वहां हैं।

पालमर ने मैसेज भेजने वाले ऐप टेलीग्राम पर कहा कि हमले को नाकाम करने के लिए हम हर संभव कोशिश करेंगे। लेकिन हम वहां फंसे नागरिकों को निकालने और सुरक्षित बाहर लाने के लिए तत्काल कदम उठाने की अपील कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि रात भर संयंत्र पर रूसी नौसेना के तोपखाने ने गोलाबारी की और हवाई हमले किए। हमले में दो महिलाएं मारी गईं और 10 नागरिक घायल हो गए।

विस्तार

यूक्रेन के मारियुपोल में प्रतिरोध का आखिरी स्थान माने जा रहे एक इस्पात संयंत्र पर रूसी सैनिकों ने मंगलवार को धावा बोल दिया। यूक्रेनी रक्षकों ने यह जानकारी दी। संयंत्र के नीचे मौजूद बंकर से पिछले सप्ताह निकाले गए दर्जनों नागरिकों के यूक्रेन के नियंत्रण वाले अपेक्षाकृत एक सुरक्षित शहर में पहुंचने के कुछ ही देर बाद यह हमला शुरू हुआ।

यूक्रेन के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवीय सहायता समन्वयक ओस्नात लुबरानी ने कहा कि 101 महिलाएं, पुरुष, बच्चे और वृद्ध लोग आखिरकार बंकर से निकल सकें, जो अजोवस्ताल स्टीलवर्क्स के नीचे है। वे लोग दो महीनों से वहां शरण लिए हुए थे। हालांकि, जो लोग वहीं रह गये उनके लिए अच्छी खबर नहीं है। यूक्रेनी सैनिकों ने कहा है कि रूसी सैनिकों ने संयंत्र पर हमले शुरू कर दिये हैं।

यूक्रेन के अजोव रेजिमेंट के उप कमांडर स्वीयात्सलाव पालमर ने कहा कि रूसी सैनिक बख्तरबंद वाहनों और टैंक की मदद से जोरदार हमला कर रहे हैं। यूक्रेनी उप प्रधानमंत्री इरयाना वेरेशचुक ने कहा कि संयंत्र के अंदर छिपे यूक्रेनी लड़ाकों की संख्या के बारे में जानकारी नहीं है लेकिन रूसी अनुमानों के मुताबिक यह संख्या हफ्ते भर पहले 2,000 थी और ऐसी खबरें हैं कि उनमें से 500 घायल हैं। सैकड़ों की संख्या में नागरिक भी वहां हैं।

पालमर ने मैसेज भेजने वाले ऐप टेलीग्राम पर कहा कि हमले को नाकाम करने के लिए हम हर संभव कोशिश करेंगे। लेकिन हम वहां फंसे नागरिकों को निकालने और सुरक्षित बाहर लाने के लिए तत्काल कदम उठाने की अपील कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि रात भर संयंत्र पर रूसी नौसेना के तोपखाने ने गोलाबारी की और हवाई हमले किए। हमले में दो महिलाएं मारी गईं और 10 नागरिक घायल हो गए।



Source link

Leave a Comment